Follow us

लखीमपुर हिंसा: SC ने आशीष मिश्रा को मिली अंतरिम जमानत आगे बढ़ाई

Lakhimpur violence

नई दिल्ली। सर्वोच्च न्यायलय ने लखीमपुर-खीरी हिंसा मामले मे केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को मिली अंतरिम जमानत की अवधि अगले आदेश तक के लिए बढ़ा दी है।

मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस सूर्यकांत की अध्यक्षता वाली बेंच ने रजिस्ट्री को निर्देश दिया कि वो ट्रायल कोर्ट से स्टेटस रिपोर्ट मांगे। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने बीते 25 जनवरी को आशीष मिश्रा को अंतरिम जमानत दी थी। कोर्ट ने इस मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए इस घटना से जुड़े दूसरे केस में बंद चार किसानों को भी अंतरिम जमानत प्रदान की थी। इन किसानों पर घटना के बाद पीट-पीटकर हत्या करने का आरोप है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आशीष मिश्रा या उनके परिवार ने किसी भी तरह से ट्रायल को प्रभावित करने का प्रयास किया तो जमानत रद्द कर दी जाएगी। बता दें कि इससे पहले 12 दिसंबर, 2022 को ट्रायल कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि इस मामले में 200 गवाह और 27 सीएफएसएल रिपोर्ट है, ऐसे में ट्रायल पूरा करने में कम से कम पांच साल का समय लग सकता है। वहीं यूपी सरकार ने कहा था कि आरोपितों के खिलाफ आरोप तय हो चुके हैं।

ये है मामला

उल्लेखनीय है कि लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर, 2021 को हुई हिंसा में आठ लोगों की मौत हो गई थी।इस मामले में एसआईटी ने बीजेपी नेता अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को मुख्य आरोपित बनाकर 3 जनवरी को लखीमपुर की कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी।

इसे भी पढ़ें- ख़ुफ़िया तंत्र की नाकामी से हुई हल्द्वानी में हिंसा: मायावती

इसे भी पढ़ें- राज्यसभा में गूंजा फिल्म ‘एनिमल’ में दिखाई गई हिंसा का मुद्दा, कांग्रेस एमपी बोलीं...

nyaay24news
Author: nyaay24news

disclaimer

– न्याय 24 न्यूज़ तक अपनी बात, खबर, सूचनाएं, किसी खबर पर अपना पक्ष, लीगल नोटिस इस मेल के जरिए पहुंचाएं। nyaaynews24@gmail.com

– न्याय 24 न्यूज़ पिछले 2 साल से भरोसे का नाम है। अगर खबर भेजने वाले अपने नाम पहचान को गोपनीय रखने का अनुरोध करते हैं तो उनकी निजता की रक्षा हर हाल में की जाती है और उनके भरोसे को कायम रखा जाता है।

– न्याय 24 न्यूज़ की तरफ से किसी जिले में किसी भी व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया गया है। कुछ एक जगहों पर अपवाद को छोड़कर, इसलिए अगर कोई खुद को न्याय 24 से जुड़ा हुआ बताता है तो उसके दावे को संदिग्ध मानें और पुष्टि के लिए न्याय 24 को मेल भेजकर पूछ लें।

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Top Headlines

Live Cricket