Follow us

फर्जी असलहा लाइसेंस मामले में मुख्तार अंसारी दोषी करार, कल सुनाई जाएगी सजा

MUKHTAR

वाराणसी। बांदा जेल में बंद माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को असलहा लाइसेंस में धोखाधड़ी के मामले में दोषी करार दिया गया है। इस मामले में वाराणसी की MP-MLA कोर्ट बुधवार को फैसला सुना सकती है। फर्जी लाइसेंस से जुड़ा ये मामला 36 साल पुराना है। इसमें मुख्तार अंसारी पर डीएम और एसपी का फर्जी हस्ताक्षर कर लाइसेंस लेने का आरोप है। कोर्ट में आज हुई सुनवाई के दौरान मुख़्तार अंसारी बांदा जेल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़ा था।

इससे पहले विशेष जज (MP-MLA court) अवनीश कुमार गौतम ने 27 फरवरी को मामले की सुनवाई की थी, जिसमें दोनों पक्षों की तरफ से बहस पूरी हो गई थी और 12 मार्च को फैसला सुनाने की तारीख़ तय की गई थी। आज हुई सुनवाई में कोर्ट ने मुख्‍तार को दोषी तो करार दिया और सजा का फैसला कल के लिए टाल दिया। .

ये है मामला

उल्लेखनीय है कि 4 दिसंबर 1990 को मुहम्‍मदाबाद थाने में तत्कालीन डिप्‍टी कलेक्‍टर ने मुख़्तार अंसारी समेत 5 नामजद और अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कराया था और फर्जी असलहा लाइसेंस लेने का आरोप लगाया था। सुनवाई के दौरान गौरीशंकर श्रीवास्‍तव का निधन हो गया था और इस मामले में पूर्व सीएस आलोक रंजन और पूर्व डीजीपी देवराज नागर ने भी बयान दर्ज कराए थे। जांच के बाद तत्‍कालीन आयुध लिपिक गौरीशंकर श्रीवास्‍तव और मुख्‍तार अंसारी के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की गई थी। इस मामले में 10 लोगों की गवाही हुई थी। इस मामले में पूर्व मुख्य सचिव और पूर्व डीजीपी ने भी गवाही दी थी।

इसे भी पढ़ें- उमर ने SC में दायर की याचिका, कहा- जेल में रची जा रही मुख़्तार अंसारी की हत्या की साजिश, कहीं और करें शिफ्ट

इसे भी पढ़ें- मुख्तार अंसारी के छोटे बेटे उमर ने मऊ की कोर्ट में किया सरेंडर

nyaay24news
Author: nyaay24news

disclaimer

– न्याय 24 न्यूज़ तक अपनी बात, खबर, सूचनाएं, किसी खबर पर अपना पक्ष, लीगल नोटिस इस मेल के जरिए पहुंचाएं। nyaaynews24@gmail.com

– न्याय 24 न्यूज़ पिछले 2 साल से भरोसे का नाम है। अगर खबर भेजने वाले अपने नाम पहचान को गोपनीय रखने का अनुरोध करते हैं तो उनकी निजता की रक्षा हर हाल में की जाती है और उनके भरोसे को कायम रखा जाता है।

– न्याय 24 न्यूज़ की तरफ से किसी जिले में किसी भी व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया गया है। कुछ एक जगहों पर अपवाद को छोड़कर, इसलिए अगर कोई खुद को न्याय 24 से जुड़ा हुआ बताता है तो उसके दावे को संदिग्ध मानें और पुष्टि के लिए न्याय 24 को मेल भेजकर पूछ लें।

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS