Follow us

सत्ता के चक्रव्यूह के पहले द्वार का प्रवेश पश्चिम से!

सत्ता के चक्रव्यूह
  • पिछले चुनाव में सपा-बसपा-रालोद गठबंधन ने बीजेपी का जोरदार विरोध किया था।

  • पहले चरण में जिन आठ सीटों पर चुनाव हुआ, उनमें से पांच पर एसपी-बीएसपी ने जीत हासिल की।

  • इस बार बीजेपी-आरएलडी, एसपी-कांग्रेस गठबंधन और बीएसपी की भूमिका अहम है।

  • सबकी निगाहें जयंत, संजीव बालियान, ओम कुमार और वरुण गांधी पर होंगी।

2024 लोकसभा चुनावों की शुरुआत पश्चिमी यूपी की आठ लोकसभा सीटों पर से होगा। इन उम्मीदवारों का नामांकन बुधवार से शुरू हो रहा है। यहां तक ​​कि प्रमुख राजनीतिक दल भी कई सीटों पर उम्मीदवार तय नहीं कर पा रहे हैं। ऐसी सीटों पर चुनाव की आम तस्वीर स्पष्ट नहीं है। पिछले दो लोकसभा चुनावों के नतीजे बताते हैं कि पश्चिमी यूपी की सियासी लहर का फायदा पूर्वी यूपी को हो रहा है। पश्चिम में चाहे जो भी पार्टी का माहौल बना हो, उसका प्रभाव पूर्व में अवश्य ही ध्यान देने योग्य है इसलिए, पार्टियां पश्चिम पर जीत हासिल करने की पूरी कोशिश कर रही हैं।

पहले चरण में चुनाव के लिए आठ सीटों में से, भाजपा ने 2014 के चुनावों में सभी सीटें जीती थीं। पार्टी ने अकेले देशभर में 71 सीटें जीतीं। इस गठबंधन के पास कुल 73 सीटें होंगी। 2019 के चुनाव में इन सीटों पर सपा-रालोद और बसपा गठबंधन के खिलाफ लड़ाई में बीजेपी का प्रदर्शन खराब रहा। उन्होंने 8 में से केवल तीन सीटें जीतीं। ऐसे में सपा और बसपा को पूर्वांचल में कई सीटें मिलीं, जबकि बीजेपी को सिर्फ 62 सीटें मिलीं।

सत्ता के चक्रव्यूह
सत्ता के चक्रव्यूह

यह चुनाव पश्चिम में फिर से शुरू होगा। शुरुआत में पश्चिमी यूपी की 8 लोकसभा सीटों पर चुनाव होंगे। इन उम्मीदवारों का नामांकन बुधवार से शुरू हो रहा है। यहां तक ​​कि प्रमुख राजनीतिक दल भी कई सीटों पर उम्मीदवार तय नहीं कर पा रहे हैं। ऐसी सीटों पर चुनाव की आम तस्वीर स्पष्ट नहीं है। पिछले लोकसभा चुनाव के बाद से यहां के राजनीतिक हालात में काफी बदलाव आया है, जिसका असर चुनाव में दिख रहा है। यह चुनाव क्षेत्र में एक प्रमुख व्यक्ति रालोद नेता जयंत चौधरी की स्थिति भी तय करेगा। केंद्रीय मंत्री संजय बालियान की हैट्रिक कोशिशों की परीक्षा होगी। यह चुनाव तय करेगा कि बीजेपी नेता वरुण गांधी का राजनीतिक भविष्य क्या होगा। यह चुनाव यह भी तय करेगा कि नखतौर विधायक ओम कुमार संसद में जा सकेंगे या नहीं।

जयंत चौधरी के संकल्प का परीक्षण 

यह क्षेत्र किसान और जाट नेता अजीत सिंह के प्रभाव वाला माना जाता है। चाहे आप जीतें या हारें, जीतने वाला पक्ष हमेशा सोचता है कि उसका पलड़ा भारी है। अजीत को अपनी बदनामी की भारी राजनीतिक कीमत भी चुकानी पड़ी। यह चुनाव अजीत सिंह के बिना होगा। सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों की ओर से जयंत चौधरी को अजीत का उत्तराधिकारी बनाने की कोशिशें अंत तक जारी रहीं। आख़िरकार पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देने की सत्ताधारी पार्टी की चाल सफल रही। पिछले चुनाव में जयंत जाट दलित मुस्लिम गठबंधन छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे। यह चुनाव तय करेगा कि जयन का फैसला कितना सही है।

राजनीति में बदलाव: अमृत महागठबंधन से बसपा तक, इस बार कौन सा गठबंधन?

पिछले चुनाव में सपा, बसपा और रालोद के बीच बड़ा गठबंधन बना था। इस बार पहले चरण की आठ सीटों में से चार पर सपा, तीन पर बसपा और एक पर रालोद को संघर्ष करना पड़ा। बसपा के खाते से गायब हो गया महागंठबंधन का शहद! बसपा ने अपने हिस्से की तीनों सीटें (सहारनपुर, बिजनौर और नगीना) जीत लीं। सपा ने चार में से दो सीटें (मुरादाबाद और रामपुर) जीतीं। आरएलडी का खाता नहीं खुल सका।  बीजेपी ने कैराना, मुजफ्फरनगर और पीलीभीत में सीटें जीती थीं।

आठ सीटों का समीकरण
रामपुर- आजम के बिना चुनाव!

चुनाव के पहले चरण में कभी समाजवादी पार्टी का मुस्लिम चेहरा माने जाने वाले आजम खान की रामपुर समेत कई सीटों पर जीत तय रहती थी। पिछले पांच वर्षों में कई उतार-चढ़ाव से गुजरने के बाद, आजम खान को जेल हुई, दोषी पाया गया और विधायक के रूप में अयोग्य घोषित कर दिया गया। उपचुनाव हुआ जिसमें बीजेपी के घनश्‍याम लोधी सांसद बने। सपा ने अभी तक रामपुर सीट के लिए अपने उम्मीदवार का ऐलान नहीं किया है।  बीजेपी ने लोधी को फिर से अपना उम्मीदवार बनाया है।

बिजनौर- पिछले चुनाव के सभी मित्र दल, इस बार एक-दूसरे से मुकाबला करेंगे।

बीजेपी-आरएलडी गठबंधन में आरएलडी ने दो सीटें जीतीं-बिजनौर और बागपत। ऐसे में अब सिर्फ पहले चरण का ही चुनाव बिजनौर में होगा। एसपी-बीएसपी-आरएलडी गठबंधन में 2019 में बिजनौर की एक सीट बीएसपी के खाते में थी और उसके उम्मीदवार मुल्क नागर ने चुनाव जीता था। इस बार अपने चुनाव प्रचार को तेज करने के लिए रालोद ने चंदन चौहान और सपा ने यशवीर सिंह को मैदान में उतारा है। बसपा स्वतंत्र है और अभी तक कोई आधिकारिक उम्मीदवार घोषित नहीं किया गया है। इस बार 2019 में तीनों मित्र दलों के उम्मीदवार अलग-अलग एक-दूसरे से मुकाबला करेंगे।

मुजफ्फरनगर: उस बार संजीव ने अजित को हराया था, अब रालोद भी उन्हें जिताएगा

2019 के लोकसभा चुनाव में यहां से केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान और आरएलडी प्रमुख अजीत सिंह एक-दूसरे पर नजरें गड़ाए हुए थे। बालियान लगातार दूसरी बार जीते। अजीत सिंह अब नहीं रहे और बदली हुई परिस्थितियों में आरएलडी और बीजेपी एक साथ हैं। ऐसे में रालोद भी इस बार बलियान में अपनी ताकत लगाएगी। सपा ने पूर्व सांसद हरेंद्र मलिक को अपना उम्मीदवार बनाया है। अभी तक बसपा प्रत्याशी की घोषणा नहीं की गयी है।

तीनों दलों के प्रत्याशियों का इंतजार सहारनपुर

पिछले चुनाव में बसपा ने महागठबंधन के जरिए सहारनपुर सीट जीती थी। बसपा के हाजी फजलुर्रहमान ने भाजपा के राघव लखनपाल को हराकर चुनाव जीता। इस बार सपा-कांग्रेस गठबंधन में यह सीट कांग्रेस के खाते में चली गई। अभी तक भाजपा, कांग्रेस और बसपा की ओर से किसी ने भी यहां से प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है।

कैराना: इस बार सपा की इकरा का मुकाबला बीजेपी के प्रदीप से होगा

2019 के चुनाव में बीजेपी के प्रदीप कुमार चौधरी ने एसपी की तबस्सुम बेगम को हराकर जीत हासिल की। इस चुनाव में सपा ने पूर्व सांसद मनूर हसन की बेटी इकरा हसन और तबसेम बेगम को अपना उम्मीदवार बनाया है। इकरा के छोटे भाई नाहिद हसन विधायक हैं। यहां से हम बसपा प्रत्याशियों का इंतजार कर रहे हैं।

नगीना: भाजपा, सपा में शामिल हुए नये चेहरे, बसपा का इंतजार

पिछले चुनाव में बसपा के गिरीश चंद्र ने महागठबंधन से जीत हासिल की और सांसद बने। बसपा ने अभी तक एक भी टिकट पूरा नहीं किया है। इस बार एसपी ने रिटायर जज मनोज कुमार को मैदान में उतारा है, जबकि बीजेपी ने नहटूर से विधायक ओम कुमार को मैदान में उतारा है। इस बार दोनों पार्टियों के नए उम्मीदवार एक दूसरे को टक्कर दे रहे हैं।

मुरादाबाद: अभी भी प्रत्याशियों का इंतजार है

अनुसूचित जनजाति सपा के हसन ने बीजेपी के कंवर सोरौश कुमार को हराकर चुनाव जीता। इस सीट पर अभी तक किसी भी राजनीतिक दल ने अपना पत्ता नहीं खोला है। एसपी-कांग्रेस गठबंधन में यह सीट एसपी के हिस्से में है और बीजेपी-आरएलडी गठबंधन में यह सीट बीजेपी के हिस्से में है।

पीलीभीत:  वरुण गांधी नहीं तो फिर कौन?

इस सीट से पिछला चुनाव बीजेपी के वरुण गांधी ने जीता था,  लेकिन कुछ दिनों बाद उनका रवैया बदल गया। अक्सर देखा गया कि वे सरकार को खुद को कटघरे में खड़ा करके सवाल उठाते थे। अभी तक इस सीट पर बीजेपी ने किसी को टिकट नहीं दिया है। सपा और बसपा भी अब चुप हैं।

इसे भी पढ़ें- NDA में शामिल हुए जयंत चौधरी, बिजनौर और बागपत सीट आई हिस्से में

इसे भी पढ़ें-जयंत चौधरी को लेकर राजभर ने किया बड़ा दावा, यूपी की सियासत में मची हलचल

nyaay24news
Author: nyaay24news

disclaimer

– न्याय 24 न्यूज़ तक अपनी बात, खबर, सूचनाएं, किसी खबर पर अपना पक्ष, लीगल नोटिस इस मेल के जरिए पहुंचाएं। nyaaynews24@gmail.com

– न्याय 24 न्यूज़ पिछले 2 साल से भरोसे का नाम है। अगर खबर भेजने वाले अपने नाम पहचान को गोपनीय रखने का अनुरोध करते हैं तो उनकी निजता की रक्षा हर हाल में की जाती है और उनके भरोसे को कायम रखा जाता है।

– न्याय 24 न्यूज़ की तरफ से किसी जिले में किसी भी व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया गया है। कुछ एक जगहों पर अपवाद को छोड़कर, इसलिए अगर कोई खुद को न्याय 24 से जुड़ा हुआ बताता है तो उसके दावे को संदिग्ध मानें और पुष्टि के लिए न्याय 24 को मेल भेजकर पूछ लें।

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Top Headlines

Live Cricket