Follow us

रावण की ससुराल से चुनाव मैदान में उतरे राम, लाएंगे रामराज

राम

रामानंद सागर के पौराणिक धारावाहिक रामायण में राम की भूमिका निभा कर लोगों के दिलों में खास जगह बना चुके अरुण गोविल को बीजेपी ने उत्तर प्रदेश की मेरठ लोकसभा सीट से चुनावी मैदान में उतारा है। 90 के दशक में जब ये सीरियल टीवी पर आता था तो कई लोग उनके पर्दे पर आते ही आरती उतारने लगते थे। वहीं अब 2024 के चुनाव में वे मेरठ चुनाव लड़ रहे हैं।

बता दें कि मेरठ रावण का ससुराल है। मान्यता है कि रावण की पत्नी मंदोदरी यहीं की रहने वाली थीं। घर-घर में प्रभु राम की तरह पूजे गए अरुण गोविल, अब “जनता से वोटों का प्रसाद पाकर लोकतंत्र के मंदिर में रामराज की पुनर्स्थापना का संकल्प लेने के लिए मैदान में हैं। इसमें उन्हें कितनी सफलता मिलेगी ये तो आने वाला समय ही बताएगा। 72 वर्षीय अरुण गोविल को अब एक बार फिर से श्रीराम के प्रति आस्था को साकार रूप देने का फिर मौका है।

उल्लेखनीय है कि अरुण गोविल ने जब रामानंद सागर के धारावाहिक ‘रामायण’ के लिए ऑडिशन दिया था, तो घरवालों ने इसका विरोध किया था। वे उनके इस फैसले के पक्ष में नहीं थे। उनका मानना था कि राम के किरदार में टीवी पर आने के बाद अरुण को कॉमर्शियल सिनेमा में नुकसान होगा। उधर रामानंद सागर ने उन्हें भरत या फिर लक्ष्मण के किरदार की पेशकश की थी, लेकिन उन्होंने ठान लिया था कि वे राम की ही भूमिका निभाएंगे। बता दें कि मेरठ अरुण गोविल का गृह जनपद है। ऐसे में उम्मीद है कि जनता उन्हें अपना भरपूर प्यार और सहयोग देकर रामराज की पुर्नस्थापना का मौका देगी।

विक्रम बेताल से बनाई थी अलग पहचान

गौरतलब है कि अरुण गोविल ने थिएटर और बॉलीवुड में भी अभिनय किया है। उन्होंने अपने अभिनय करियर की शुरुआत स्कूल के दिनों में की थी। गोविल मेरठ के गवर्नमेंट इंटर कॉलेज की ड्रामेटिक सोसायटी के भी सदस्य रहे। 1970 के दशक में अभिनय के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए जब वे मुंबई पहुंचे तो राजश्री प्रोडक्शन ने उन्हें 1977 में अपनी फिल्म ‘पहेली’ में बतौर सहायक अभिनेता काम करने का मौका दिया। कुछ ही साल बाद राजश्री प्रोडक्शन ने अपनी तीन फिल्मों में अरुण गोविल को लीड एक्टर के तौर पर लिया। इनमें ‘सावन को आने दो और सांच को आंच नहीं’ फ़िल्में उस वक्त काफी चर्चित हुई थीं। वहीं ‘विक्रम बेताल’ में शानदार अभिनय कर गोविल ने अपनी एक अलग पहचान बना ली थी।

‘रामायण’ सीरियल के करीब 30 ‘साल बाद अरुण गोविल ने एक बार फिर से थियेटर की दुनिया में कदम रखा। उन्होंने 2019 में अतुल सत्य कौशिक के लिए ‘द लीजेंड ऑफ रामः एक शब्द, एक बाण, एक नारी’ नाटक में मंच पर श्रीराम का अभिनय किया। इस नाटक के लास्ट में अरुण गोविल एक संवाद बोलते हैं- ‘प्रजा के हित के आगे राजा शून्य हो जाता है।’ मंच पर उनका यह संवाद राजनीति में एक नेता के लिए कड़ा संदेश है। अब ये देखना है कि सियासी पारी में वह इस संवाद को किस तरह से अपने जीवन में उतार पाते हैं।

इसे भी पढ़ें- वाराणसी से चुनाव लड़ेगी ओवैसी की AIMIM पार्टी, हाईकमान को भेजी गई नामों की लिस्ट

इसे भी पढ़ें- बिहार के ये दो अधिकारी संभालेंगे यूपी में चुनाव का जिम्मा, एक है एनकाउंटर स्पेशलिस्ट, तो दूसरे की छवि है बेदाग

nyaay24news
Author: nyaay24news

disclaimer

– न्याय 24 न्यूज़ तक अपनी बात, खबर, सूचनाएं, किसी खबर पर अपना पक्ष, लीगल नोटिस इस मेल के जरिए पहुंचाएं। nyaaynews24@gmail.com

– न्याय 24 न्यूज़ पिछले 2 साल से भरोसे का नाम है। अगर खबर भेजने वाले अपने नाम पहचान को गोपनीय रखने का अनुरोध करते हैं तो उनकी निजता की रक्षा हर हाल में की जाती है और उनके भरोसे को कायम रखा जाता है।

– न्याय 24 न्यूज़ की तरफ से किसी जिले में किसी भी व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया गया है। कुछ एक जगहों पर अपवाद को छोड़कर, इसलिए अगर कोई खुद को न्याय 24 से जुड़ा हुआ बताता है तो उसके दावे को संदिग्ध मानें और पुष्टि के लिए न्याय 24 को मेल भेजकर पूछ लें।

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Top Headlines

Live Cricket