Follow us

कोर्ट ने पति और ससुराल वालों को लगाई फटकार, कहा- ‘दहेज नहीं मिला तो क्या महिला को भूखा-प्यासा रखेंगे’

Dowry Case

भोपाल। दहेज न मिलने पर विवाहिता को खाना न देना शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना की श्रेणी में आता है। यह बात मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई के दौरान कही। मामले की सुनवाई कर रही जस्टिस गुरपाल सिंह आहलुवालिया की पीठ ने कहा, दहेज की मांग पूरी न करने पर महिला को उसके माता-पिता के घर में रहने के लिए मजबूर करना मानसिक प्रताड़ना है और ये दंडनीय अपराध है। दरअसल, महिला के पति ने उसके खिलाफ धारा 498ए, 506 और 34 के तहत दर्ज एफआईआर को रद्द करने के लिए हाईकोर्ट में अर्जी डाली थी लेकिन कोर्ट ने उसकी अर्जी खारिज कर दी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता ने बताया कि उसकी शादी अप्रैल 2018 में हुई थी। शादी में उसके पिता ने अपनी सामर्थ्य के अनुसार दान दहेज दिया था लेकिन ससुराल वालों को एसी कार चाहिए थी, जिसे देने के उसके मायके वाले असमर्थ थे। इसके लिए उन लोगों उसे खाना देना बंद कर दिया। ससुराल में वह कई-कई दिनों तक भूखी रहती थी।महिला ने बताया कि वह एक साल से अपने माता-पिता के साथ रह रही है  क्योंकि उसका पति उसे घर नहीं ले जा रहा है। इस एफआईआर के खिलाफ पति और उसके परिवार वालों ने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था और उसे रद्द करने की मांग की थी।

महिला के ससुराल पक्ष वालों का कहना है कि यह एफआईआर पति द्वारा तलाक की अर्जी दाखिल करने के ठीक एक दिन बाद दर्ज की गई है। दरअसल पति ने एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर और क्रूरता का आरोप लगाते हुए पत्नी से तलाक मांगा था। वहीं, महिला द्वारा दर्ज की गई एफआईआर को संज्ञान में लेते हुए कोर्ट ने कहा, दहेज की मांग पूरी न होने पर किसी महिला को खाना न देना निश्चित रूप से शारीरिक और मानसिक उत्पीड़न है। कोर्ट ने कहा,  तलाक की याचिका दाखिल करने के बाद एफआईआर दर्ज की गई है, इसका मतलब यह नहीं है कि इस आधार पर एफआईआर को खारिज कर दिया जाए।

इसे भी पढ़ें-पति ने भरी पंचायत में दिया तीन तलाक, कहा- ‘पहले दहेज लाओ, फिर साथ रहना’

इसे भी पढ़ें-पत्नी के हत्यारे को पुलिस ने किया अरेस्ट, अवैध संबंध में वारदात को दिया था अंजाम

nyaay24news
Author: nyaay24news

disclaimer

– न्याय 24 न्यूज़ तक अपनी बात, खबर, सूचनाएं, किसी खबर पर अपना पक्ष, लीगल नोटिस इस मेल के जरिए पहुंचाएं। nyaaynews24@gmail.com

– न्याय 24 न्यूज़ पिछले 2 साल से भरोसे का नाम है। अगर खबर भेजने वाले अपने नाम पहचान को गोपनीय रखने का अनुरोध करते हैं तो उनकी निजता की रक्षा हर हाल में की जाती है और उनके भरोसे को कायम रखा जाता है।

– न्याय 24 न्यूज़ की तरफ से किसी जिले में किसी भी व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया गया है। कुछ एक जगहों पर अपवाद को छोड़कर, इसलिए अगर कोई खुद को न्याय 24 से जुड़ा हुआ बताता है तो उसके दावे को संदिग्ध मानें और पुष्टि के लिए न्याय 24 को मेल भेजकर पूछ लें।

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Top Headlines

‘मोदी जी को कौन रोक रहा वायनाड से लड़ लें, ‘ प्रियंका के नामांकन होते ही कांग्रेस प्रधानमंत्री को चुनौती देगी!

राहुल गांधी ने वायनाड लोकसभा सीट से इस्तीफा दे दिया है वही राहुल गाँधी अब रायबरेली का प्रतिनिधित्व करेंगे कांग्रेस

Live Cricket