Follow us

बाड़मेर: जहां इस निर्दलीय प्रत्याशी की एंट्री ने मुकाबले को त्रिकोणीय बना दिया है

 पूर्व बीजेपी नेता और राजस्थान शिव सीट से निर्दलीय विधायक रवींद्र सिंह भाटी ने बाड़मेर लोकसभा सीट से अपना नामांकन दाखिल कर दिया है.यह भाटी को भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी और कांग्रेस के उम्मेदा राम के खिलाफ सीधे मुकाबले में खड़ा करता है।भाटी पिछले साल अक्टूबर में विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए थे और शिव विधानसभा क्षेत्र से टिकट की उम्मीद कर रहे थे।हालाँकि, टिकट से इनकार किए जाने के बाद,उन्होंने एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ने का फैसला किया और कांग्रेस के दिग्गज नेता अमीन खान को हराकर शिव विधानसभा सीट जीती।

राजस्थान. राजस्थान की राजनीति में इस समय एक 26 साल के युवा नेता की खूब चर्चा हो रही है. यह युवा पाकिस्तान की सीमा से सटे राजस्थान के बाड़मेर जिले की शिव विधानसभा सीट से वर्तमान में निर्दलीय विधायक है और बाड़मेर संसदीय सीट से लोकसभा चुनाव के लिए निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल किया है. इस नौजवान का नाम है रविंद्र सिंह भाटी, जिसे सुनने और देखने के लिए उसके रोड शो और सभाओं में हजारों की तादाद में लोग उमड़ रहे हैं.

बाड़मेर लोकसभा सीट पर चुनावी ताल ठोककर रविंद्र सिंह भाटी ने मोदी सरकार के मंत्री कैलाश चौधरी को सीधे तौर पर चुनौती दे दी है. नामांकन के दौरान भाटी को सुनने और देखने के लिए लोगों का जनसैलाब सड़कों पर उतर गया. जब रविंद्र सिंह भाटी के नामांकन के दौरान उमड़ी भीड़ की तस्वीरें अखबारों में छपीं और समाचार चैनलों पर वीडियो फुटेज चले तो यह युवा नेता इस लोकसभा चुनाव के सबसे चर्चित उम्मीदवारों में से एक बना गया. अब हर कोई जानना चाहता है कि आखिर इस 26 साल के युवा में ऐसी क्या खास बात है, जो इसे जनता का इतना समर्थन मिल रहा।

कौन है रविंद्र सिंह भाटी

बाड़मेर के छोटे से गांव दूधोड़ा के रहने वाले रविंद्र सिंह भाटी बेहद सामान्य परिवार से ताल्लुक रखते हैं. उनके पिता शिक्षक हैं. भाटी के परिवार का राजनीति से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं रहा है. रविंद्र सिंह भाटी ने अपनी शुरुआती शिक्षा गांव के पास स्थित सरकारी स्कूल से ली. फिर बाड़मेर शहर के एक स्कूल से इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई पूरी की. वह उच्च शिक्षा के लिए जय नारायण व्यास यूनिवर्सिटी पहुंचे. यहीं पर उन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता के रूप में छात्र राजनीति में कदम रखा. भाटी ने ग्रेजुएशन के बाद वकालत की पढ़ाई पूरी की.

AVBP ने टिकट नहीं दिया, निर्दलीय जीता छात्रसंघ चुनाव

साल 2019 में रविंद्र सिंह भाटी ने छात्रसंघ अध्यक्ष पद के लिए एबीवीपी से टिकट की दावेदारी पेश की. लेकिन, एबीवीपी ने भाटी को टिकट न देकर किसी और को अपना प्रत्याशी घोषित किया.अब आगे क्या तरह था इससे नाराज भाटी ने निर्दलीय ताल ठोक दी और यूनिवर्सिटी के 57 साल के इतिहास में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में छात्रसंघ अध्यक्ष पद का चुनाव जीतने वाले पहले छात्र नेता बने. इसके बाद भाटी ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. कोरोना काल के दौरान चाहे छात्रों की फीस माफी का मुद्दा हो या गहलोत सरकार के कार्यकाल में कॉलेज की जमीन का मुद्दा, भाटी ने छात्र आंदोलन का आगे बढ़कर नेतृत्व किया. छात्र हितों के लिए वह कई बार जेल भी गए. यहां तक कि छात्रों की मांगों को लेकर विधानसभा का घेराव किया. अपनी इसी जुझारू छवि के कारण रविंद्र सिंह ​भाटी छात्रों और युवा वर्ग के चहेते बन गए.

रविंद्र सिंह भाटी तब और चर्चा में आ गए, जब उन्होंने 2022 में अपने दोस्त अरविंद सिंह भाटी को जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष का चुनाव जितवाया. एनएसयूआई ने अरविंद को टिकट नहीं दिया तो, वह SFI से चुनाव लड़े. रविंद्र भाटी ने अपने दोस्त ​अरविंद के चुनाव प्रचार का जिम्मा खुद अपने कंधों पर उठाया, और अध्यक्ष पद के लिए हुए इलेक्शन में जीत भी दिलाई. उसी दिन से राजस्थान में इस युवा की चर्चा और ज्यादा तेज हो गई. इसके बाद रविंद्र सिंह भाटी राज्य की राजनीति में उतरे. उन्होंने बीजेपी जॉइन की और 2023 के राजस्थान विधानसभा चुनाव में शिव सीट से टिकट की मांग की.

बीजेपी से बगावत कर निर्दलीय जीता था विधानसभा चुनाव

लेकिन बीजेपी ने रविंद्र भाटी को टिकट ना देकर संघ की पृष्ठभूमि वाले और उस समय के अपने बाड़मेर जिलाध्यक्ष स्वरूप सिंह खारा को शिव से उम्मीदवार बना दिया. इससे नाराज भाटी ने बीजेपी से बगावत कर शिव विधानसभा से निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया. विधानसभा चुनाव में भाटी के सामने शिव सीट पर सबसे बड़ी चुनौती कांग्रेस के पूर्व मंत्री अमीन खान थे. अमीन खान ने कांग्रेस के सिंबल पर 9 बार पहले चुनाव लड़ा था और 84 साल की उम्र में 10वीं बार ताल ठोक रहे थे. इसके अलावा बीजेपी के स्वरूप सिंह खारा और कांग्रेस से के बागी फतेह खान और पूर्व विधायक जालम सिंह रावत जैसे चेहरे इस 26 वर्षीय युवा के सामने थे.

इसे भी पढ़े_Up Board Exam Result: इंतजार खत्म, इस डेट तक आ सकता है यूपी बोर्ड का रिजल्ट

इसे भी पढ़े_UP Lok Sabha Election 2024: बसपा को बड़ा झटका, इस सांसद ने छोड़ी पार्टी

nyaay24news
Author: nyaay24news

disclaimer

– न्याय 24 न्यूज़ तक अपनी बात, खबर, सूचनाएं, किसी खबर पर अपना पक्ष, लीगल नोटिस इस मेल के जरिए पहुंचाएं। nyaaynews24@gmail.com

– न्याय 24 न्यूज़ पिछले 2 साल से भरोसे का नाम है। अगर खबर भेजने वाले अपने नाम पहचान को गोपनीय रखने का अनुरोध करते हैं तो उनकी निजता की रक्षा हर हाल में की जाती है और उनके भरोसे को कायम रखा जाता है।

– न्याय 24 न्यूज़ की तरफ से किसी जिले में किसी भी व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया गया है। कुछ एक जगहों पर अपवाद को छोड़कर, इसलिए अगर कोई खुद को न्याय 24 से जुड़ा हुआ बताता है तो उसके दावे को संदिग्ध मानें और पुष्टि के लिए न्याय 24 को मेल भेजकर पूछ लें।

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Top Headlines

‘मोदी जी को कौन रोक रहा वायनाड से लड़ लें, ‘ प्रियंका के नामांकन होते ही कांग्रेस प्रधानमंत्री को चुनौती देगी!

राहुल गांधी ने वायनाड लोकसभा सीट से इस्तीफा दे दिया है वही राहुल गाँधी अब रायबरेली का प्रतिनिधित्व करेंगे कांग्रेस

Live Cricket