Follow us

अतीक-अशरफ की बेनामी संपत्ति: आठ करोड़ का मालिक निकला सफाईकर्मी, जांच में जुटी पुलिस

atiq-ashraf

प्रयागराज। अतीक-अशरफ की बेनामी संपत्तियों को ठिकाने लगाने के लिए आठ हजार महीने कमाने वाले जिस सफाईकर्मी के नाम का इस्तेमाल किया गया, वह आठ करोड़ की संपत्ति का मालिक निकला। पुलिस को इस बात के सबूत मिले हैं कि नैनी, फूलपुर और कंडिया तहसीलों की उसके नाम पर बेशकीमती जमीनें हैं।  पुलिस को फिलहाल, पांच जमीनों के बारे में पता चला है। अब वह इसकी तलाश में जुट गई है।

एक दिन पहले ही नवाबगंज के करौली निवासी सफाईकर्मी श्यामजी सरोज का नाम तब सुर्खियों में आया था, जब उसने माफिया भाइयों के चार करीबी लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। उसने आरोप लगाया है इन चारों ने अतीक-अशरफ की बेनामी संपत्तियों का बैनामा उसके नाम पर कराया। उन लोगों ने उसे बंधक बनाकर जबरन दस्तखत उससे करवाए। अतीक-अशरफ की मौत के बाद उक्त संपत्तियों का बैनामा करने का दबाव भी बनाया गया। जब पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू की तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए।

बताया जा रहा है कि  उक्त सफाई कर्मी के नाम पर फिलहाल, पांच जमीनों का बैनामा कराने की बात पता चली। इनमें से तीन अरैल के मीरखपुर उपरहार व मवैया और दो जमीनें हंडिया व फूलपुर के सरायइनायत में स्थित हैं। इनकी मौजूदा कीमत आठ करोड़ आंकी गई है। हैरान करने वाली बात ये है कि तीन साल पहले जब इन जमीनों का बैनामा कराया गया, तब वह महज आठ हजार महीने कमाता था। मामले में उसने अपने मालिक, माफिया के गुर्गों जावेद, उसके भाई कामरान व फराज अहमद खान निवासी जीटीबी नगर करेली व शुक्ला जी नाम के एक शख्स को नामजद कराया है।

दीपक भूकर, डीसीपी नगर का कहना है कि  पुलिस को जिन संपत्तियों के बारे में पता चला है, अब उनके बारे में और अधिक जानकारी जुटाई जा रही है। राजस्व प्रशासन के सहयोग से इन सभी का भौतिक सत्यापन कराया जाएगा। इन संपत्तियों को अपराध से अर्जित संपत्ति मानकर इन्हें गैंगस्टर एक्ट के तहत कुर्क भी कराया जाएगा।

पुलिस की पूछताछ में सफाईकर्मी श्याम जी सरोज ने बताया कि आरोपियों ने उसके नाम पर आईसीआईसीआई बैंक में खाता खुलवा रखा था। उन लोगों ने चेकबुक, एटीएम व पासबुक अपने कब्जे में रखे थे। साथ ही ब्लैंक चेक पर जबरन दस्तखत करा लिए थे। वे समय-समय पर उसके नाम एनआई एक्ट के तहत नोटिस भी भेजते रहते थे, ताकि अगर वह इधर-उधर भागने की कोशिश करे तो उसे कानूनी शिकंजे में फंसाया जा सके।

ये है पूरा मामला

बताया जा रहा है कि श्याम जी सरोज 15 साल से आरोपियों के घर पर रहकर साफ-सफाई का काम करता था। आरोप है कि इन लोगों ने अतीक अहमद व अशरफ के लिए डरा-धमका कर उसके नाम पर जनपद में कई स्थानों पर जमीनों की रजिस्ट्री कराई थी। इस दौरान उसे कई दिनों तक होटल में बंधक बनाकर रखा गया।

इसे भी पढ़ें-श्रावस्ती ने माफिया अतीक अहमद के जमने नहीं दिए पांव

इसे भी पढ़ें- अतीक अहमद के करीबी पर बड़ी कार्रवाई, मुतवल्ली के पद से हटाया गया मददगार

nyaay24news
Author: nyaay24news

disclaimer

– न्याय 24 न्यूज़ तक अपनी बात, खबर, सूचनाएं, किसी खबर पर अपना पक्ष, लीगल नोटिस इस मेल के जरिए पहुंचाएं। nyaaynews24@gmail.com

– न्याय 24 न्यूज़ पिछले 2 साल से भरोसे का नाम है। अगर खबर भेजने वाले अपने नाम पहचान को गोपनीय रखने का अनुरोध करते हैं तो उनकी निजता की रक्षा हर हाल में की जाती है और उनके भरोसे को कायम रखा जाता है।

– न्याय 24 न्यूज़ की तरफ से किसी जिले में किसी भी व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया गया है। कुछ एक जगहों पर अपवाद को छोड़कर, इसलिए अगर कोई खुद को न्याय 24 से जुड़ा हुआ बताता है तो उसके दावे को संदिग्ध मानें और पुष्टि के लिए न्याय 24 को मेल भेजकर पूछ लें।

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Top Headlines

‘मोदी जी को कौन रोक रहा वायनाड से लड़ लें, ‘ प्रियंका के नामांकन होते ही कांग्रेस प्रधानमंत्री को चुनौती देगी!

राहुल गांधी ने वायनाड लोकसभा सीट से इस्तीफा दे दिया है वही राहुल गाँधी अब रायबरेली का प्रतिनिधित्व करेंगे कांग्रेस

Live Cricket