Follow us

बीजेपी के कोर वोटर्स पर है बसपा की नजर, कई सीटों पर उतारे चुनौती देने वाले प्रत्याशी

mayawati

लखनऊ। मुस्लिम बहुल सीटों पर रणनीति के तहत ख़ुद प्रत्याशी उतारने में कंजूसी बरतने वाली समाजवादी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन के कई नेता बसपा पर बीजेपी की ‘बी’ टीम होने का आरोप लगाते रहे हैं, लेकिन देखा जाये तो बसपा ने कई सीटों पर ऐसे प्रत्याशी उतारे हैं जो सीधे तौर पर भाजपा को चुनौती देते वाले हैं। सपा की राजनीति को करीब से जानने वाले प्रोफेसर गोपाल प्रसाद कहते हैं कि बेस वोट पर मंडराते खतरे को भांपते हुए बसपा ने इस बार सधी हुई रणनीति से टिकट का वितरण किया है।

बसपा के टिकट बंटवारे में जिसकी जितनी भागीदारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी का फार्मूला देखने को मिल रहा है।मायावती ने इससे आगे बढ़ते हुए अब तक जो 55 टिकट दिए हैं, जिनमें 14 मुस्लिम हैं। बता दें कि उत्तर प्रदेश की आबादी में मुसलमानों की करीब 20 फीसदी हिस्सेदारी है, जबकि बसपा 25.45 प्रतिशत टिकट मुस्लिमों को दे चुकी है। वहीं दूसरी तरफ़ गठबंधन ने अब तक घोषित 72 सीटों में से सात सीटों पर ही मुस्लिम प्रत्याशी उतारे हैं, जो उनके कुल टिकट बंटवारे का 10 प्रतिशत भी नहीं है। बसपा ने भाजपा के कोर वोटर ब्राह्मणों में से भी 11 को टिकट दिए हैं। राजनीतिक विश्लेषक डॉ. अमित उपाध्याय कहते हैं कि गठबंधन मुस्लिम वोट लेकर अपनी सीटें बढ़ाने की योजना बना रहा है।

राजनीति के जानकारों का मानना है कि गठबंधन के नेताओं का बसपा को भाजपा की ‘बी’ टीम बताना रणनीतिक सियासी शरारत की तरह है, जिससे मुसलमानों को टिकटों में कम हिस्सेदारी की ज़्यादा चर्चा न हो पाए। भाजपा के कई प्रमुख चेहरों के सामने अपने रणनीतिक उम्मीदवार उतारकर मायावती ने गठबंधन नेताओं के उस आरोप को ग़लत ठहरने की कोशिश की की है कि वह भाजपा की बी-टीम नहीं है। बसपा और भाजपा प्रत्याशियों की संख्या करीब 10 सीटों तक बढ़ गई है। बीजेपी पिछले लोकसभा चुनाव में अपनी जौनपुर सीट से हार गई थी। इस बार इस सीट पर बीजेपी ने कृपाशंकर सिंह को उतारा है।

वहीं मायावती ने ठाकुर समुदाय को साधने के लिए धनंजय सिंह की पत्नी श्रीकला सिंह को मैदान में उतारा है। दरअसल, धनंजय सिंह जेल में हैं। उनकी पत्नी श्रीकला मौजूदा समय में जौनपुर ज़िला पंचायत की अध्यक्ष हैं। समाजवादी पार्टी ने यहाँ से बाबू सिंह कुशवाह को टिकट दिया। बाबू सिंह कभी मायावती के आंख-कान  हुआ करते  थे।

इसे भी पढ़ें-कैसरगंज लोकसभा सीट: कहीं बीजेपी के गले की फांस तो नहीं बन गए हैं बृज भूषण शरण सिंह?

इसे भी पढ़ें-भारत के सम्मान और स्वाभिमान के लिए लड़ रही है बीजेपी: सीएम योगी

nyaay24news
Author: nyaay24news

disclaimer

– न्याय 24 न्यूज़ तक अपनी बात, खबर, सूचनाएं, किसी खबर पर अपना पक्ष, लीगल नोटिस इस मेल के जरिए पहुंचाएं। nyaaynews24@gmail.com

– न्याय 24 न्यूज़ पिछले 2 साल से भरोसे का नाम है। अगर खबर भेजने वाले अपने नाम पहचान को गोपनीय रखने का अनुरोध करते हैं तो उनकी निजता की रक्षा हर हाल में की जाती है और उनके भरोसे को कायम रखा जाता है।

– न्याय 24 न्यूज़ की तरफ से किसी जिले में किसी भी व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया गया है। कुछ एक जगहों पर अपवाद को छोड़कर, इसलिए अगर कोई खुद को न्याय 24 से जुड़ा हुआ बताता है तो उसके दावे को संदिग्ध मानें और पुष्टि के लिए न्याय 24 को मेल भेजकर पूछ लें।

Leave a Comment

RELATED LATEST NEWS

Top Headlines

‘मोदी जी को कौन रोक रहा वायनाड से लड़ लें, ‘ प्रियंका के नामांकन होते ही कांग्रेस प्रधानमंत्री को चुनौती देगी!

राहुल गांधी ने वायनाड लोकसभा सीट से इस्तीफा दे दिया है वही राहुल गाँधी अब रायबरेली का प्रतिनिधित्व करेंगे कांग्रेस

Live Cricket